(function() { var _fbq = window._fbq || (window._fbq = []); if (!_fbq.loaded) { var fbds = document.createElement('script'); fbds.async = true; fbds.src = '//connect.facebook.net/en_US/fbds.js'; var s = document.getElementsByTagName('script')[0]; s.parentNode.insertBefore(fbds, s); _fbq.loaded = true; } _fbq.push(['addPixelId', '1488803851393208']); })(); window._fbq = window._fbq || []; window._fbq.push(['track', 'PixelInitialized', {}]);

अक्षय ऊर्जा की सफल गाथाओं की रिपोर्ट

Video | December 13, 2011

सरकार के सौ प्रतिशत ग्रामीण विद्युतीकरण के दावे के बाद भी, भारत के कई गांवों में बिजली नहीं है ।  

हालांकि कुछ गांवों ने व्यक्ति या समूहों द्वारा शुरू किए गए डिसेंट्रलाइज्ड रिन्यूएबल एनर्जी (डीआरई) प्रोजेक्ट्स की मदद से रौशनी को देखा है ।

ये ऐसे ही कुछ डीआरई प्रोजेक्ट्स की दास्तान है जिसने कई लोगों की जिंदगियों को रौशनी से भर दिया है ।

 

सरकार के सौ प्रतिशत ग्रामीण विद्युतीकरण के दावे के बाद भी, भारत के कई गांवों में बिजली नहीं है ।

हालांकि कुछ गांवों ने व्यक्ति या समूहों द्वारा शुरू किए गए डिसेंट्रलाइज्ड रिन्यूएबल एनर्जी (डीआरई) प्रोजेक्ट्स की मदद से रौशनी को देखा है ।

ये ऐसे ही कुछ डीआरई प्रोजेक्ट्स की दास्तान है जिसने कई लोगों की जिंदगियों को रौशनी से भर दिया है ।

हिंदुस्तान की ऊर्जा जरूरतें तेजी से बढ़ती ही जा रही हैं, सरकार इसको किस तरह पूरा करने का सोच रही है ? शहर जहां बिजली कटौती की शिकायतें करते हैं, वहीं हजारों गांवों को अभी भी बिजली देखना तक बाकी है । गरीबों को डिसेंट्रलाइज्ड रिन्यूएबल एनर्जी (डीआरई) के जरिए ऊर्जा देना इसका हल है ।

 

The latest updates

Show list view