Click here to Read

ताजा जानकारी

 

सोलर से सुरक्षित हो सकती है दिल्ली

Blog entry by रुही कुमार | जुलाई 3, 2013

मैं दिल्ली में रहती हूं। दिल्ली, देश का एक ऐसा शहर जो महिलाओं की सुरक्षा के लिए बदनाम है। मैं रोज सुबह काम पर जाती हूं और शाम में अपने ऑफिस से निकलते समय जब पतली गलियों से गुजरना होता है, तो दिमाग में पहला ख्याल यही आता है क्या मैं...

ऊर्जा अकाल और भविष्य का सवाल

Blog entry by मुन्ना कुमार झा | जुलाई 1, 2013

हाल के दिनों में भारत में उर्जा की मांग और खपत दोनों में ही खासी वृद्धि दर्ज की गई है। आनेवाले सालों में भी उर्जा के मांग और आपूर्ति की यह वृद्धि जारी रहेगी। उर्जा की मांग और आपूर्ति का बढ़ा हुआ दायरा सामाजिक और आर्थिक विकास के संतुलन...

पटना टू सिंगरौली: इंडिया से भारत का सफर

Blog entry by अविनाश कुमार चंचल | जून 26, 2013

सिंगरौली लौट आया हूं। कभी पहाड़ों के उपर तो कभी उनके बीच से बलखाती निकलती पटना-सिंगरौली लिंक ट्रेन। बीच-बीच में डैम का रुप ले चुकी नदियों और उनके उपर बने पुल तो कभी पहाड़ो के पेड़ से भी ऊंची रेल पटरी से गुजरती ट्रेन। जंगल में उदास खड़ी...

कंपनी को नहीं किसान को पानी दो

Blog entry by संजय तिवारी | मई 23, 2013

महाराष्ट्र में पानी के मुद्दे पर उठे बवाल के बीच आज एक गैरसरकारी संस्था ग्रीनपीस ने वर्धा डैम पर चढ़कर 250 फुट चौड़ा पोस्टर लहरा दिया और मांग की कि महाराष्ट्र में कंपनियों से पहले किसानों को पानी दिया जाना चाहिए। जिस वक्त ग्रीनपीस के...

गिद्धों के संरक्षण के लिए भारत की प्रशंसनीय पहल

Blog entry by नेहा नौटियाल | फरवरी 26, 2013

पिछले एक दशक में दक्षिण एशिया में गिद्धों की संख्या में बड़ी तेजी से कमी आई है। मगर अच्छी खबर यह है कि दूसरे कई पश्चिमी देशों की तुलना में भारत ने गिद्धों के संरक्षण के लिए तेजी से कदम उठाए हैं। उल्लेखनीय है कि गिद्ध हमारे पारितंत्र का...

खतरे में किंग कोबरा

Blog entry by नेहा नौटियाल | फरवरी 20, 2013

हाल ही में लंदन जूलॉजिकल सोसाइटी और आईयूसीएन (अंतर्राष्ट्रीय प्राकृतिक संरक्षण यूनियन) द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि दुनियाभर में 19%  के करीब छिपकलियां, सांप, कछुए, मगरमच्छ और कई दसूरे तरह के सरीसृपों की प्रजातियां लगभग...

एपीपी ने वन संरक्षण का वादा किया!

Blog entry by नेहा नौटियाल | फरवरी 14, 2013

ग्रीनपीस ने पिछले साल केएफसी और उसकी पेरेंट कंपनी यम के खिलाफ अभियान चलाया था और उनसे एपीपी से पैकेजिंग कागज लेने ना खरीदने की मांग की थी। इस माह की शुरुआत में एपीपी (एशिया पल्प एंड पेपर) कंपनी ने अपनी नई वन संरक्षण नीति की घोषणा कागज...

आर्कटिक परिषद की पहली बैठक

Blog entry by नेहा नौटियाल | फरवरी 9, 2013

पहली बार आर्कटिक परिषद के सदस्य देशों के पर्यावरण मंत्री बैठक का आयोजन कर रहे हैं। खास बात यह है कि आर्कटिक क्षेत्र से जुड़े मुद्दों पर बहस करने के लिए इस बैठक का आयोजन उत्तरी स्वीडन के किरुना कस्बे की एक खदान में किया गया। इस बैठक...

2013 में साफ ऊर्जा के लिए गूगल की नई पहल

Blog entry by नेहा नौटियाल | फरवरी 5, 2013

गूगल ने साल 2013 की शुरुआत साफ ऊर्जा में निवेश करने की घोषणा के साथ की है। गूगल की इस पहल का मुख्य उद्देश्य साफ यानी अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देना है। साफ ऊर्जा की ओर कदम बढ़ाते हुए google.org ने "ऊर्जा फाउंडेशन" को $2.65 मिलियन डॉलर...

जैतापुर के लोगों की आवाज सुननी चाहिए

Blog entry by nnautiya | जनवरी 29, 2013

नोबल पुरस्कार विजेता और सीईईपी (सेंटर फॉर एनर्जी और एनवायर्मेंट पॉलिसी) के निदेशक जॉन बायरन ने कहा है कि जैतापुर में प्रस्तावित परमाणु संयंत्र को लेकर स्थानीय लोगों के डर और चिंता को सरकार ने नजरअंदाज किया है। बायरन पिछले दिनों...

पर्यावरण मंजूरी, नया ‘लाइसेंस परमिट कोटा राज’: प्रधानमंत्री

Blog entry by nnautiya | जनवरी 18, 2013

हफ्ते भर की खबरों पर एक नजर- 10 जनवरी को केंद्रीय मंत्रीमंडल की बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि पर्यावरण मंजूरी अब नया लाइसेंस परमिट कोटा राज बन गया है। उनकी टिप्पणी कृषि मंत्री और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के उस बयान के...

दूरसंचार में स्वच्छ उर्जा का संचार

Blog entry by मृण्मोय चट्टराज | अक्तूबर 17, 2012

वर्तमान समय में अगर दूरसंचार कंपनियों को अपनी उर्जा जरूरत के खर्च को कम करना है तो एकमात्र रास्ता है कि वे उर्जा के वैकल्पिक रास्तों को मुख्य मार्ग बनाएं। इसमें कोई दो राय नहीं है कि आनेवाले दिनों में डीजल की कमी में बढ़ोत्तरी दर्ज...

37 - 48 of 55 results.