बिहार के ऊर्जा विकास का ढांचा

 आजादी के इतने सालों के बाद भी बिहार की ज्य़ादातर जनता के पास बिजली की सुविधा नहीं है। बिहार देश के जबर्दस्त ऊर्जा अभाव वाले राज्यों में से एक है लेकिन राज्य की परिस्थितियां विकेंद्रित ऊर्जा विकास के मॉडल के लिये बिल्कुल अनुकूल हैं।

देश के ग्रामीण इलाकों में ऊर्जा का अभाव हमेशा बना रहा है। हालांकि ऊर्जा प्रत्येक व्यक्ति की मूलभूत जरूरत है और देश के आर्थिक विकास की दृष्टि से भी इसकी आपूर्ति अत्यावश्यक है। भारत सरकार ने इन जरूरतों को पूरा करने के लिये बिजली उत्पादन के केंद्रीकृत मॉडल यानी विद्युत ग्रिड को अपनाया लेकिन वो गरीबों को जरूरतों को पूरा करने में नाकाफी सिद्ध हुई और साथ ही बेहद महंगी भी।

वैकल्पिक रूप से, विकेंद्रीक़त ऊर्जा व्यवस्था के लिये मसलन ऑन और ऑफ ग्रिड तकनीक के लिये ये परिस्थितियां बिल्कुल अनुकूल हैं। लघु सौर ऊर्जा, पन बिजली, जैव ईंधन आधारित इकाईयां और जल विद्युत परियोजनायें ग्रामीणों की जरूरतों को पूरा करने में अहम भूमिका निभा सकती है। 

बिहार के वैकल्पिक ऊर्जा मॉडल के विकास का खाका: 

  1. बिहार के ऊर्जासंकट से त्रस्त जनता के एक बड़े हिस्से की बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिये बिहार के केंद्रीकृत मॉडल की तुलना में वैकल्पिक रूप से विकेंद्रीकृत नवीनीकृत ऊर्जा के मॉडल की भूमिका की पड़ताल करना।
  2. बिहार में निवेश को बढ़वा देने के लिये प्रोत्साहन पैकेज के रूप में व्यापारिक और वाणिज्यिक मकसद से बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित करना।                                                                                                                                                                                                                                                               
         

उपरोक्त लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये सरकार को निम्न कदम उठाने चाहिये:

  • ग्रामीणों की बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिये माइक्रो क्रेडिट उपलब्ध कराना और ऑफ ग्रिड नवीनीकृत ऊर्जा तकनीकों को बढ़ाने के लिये योजना बनाना।
  • ऊर्जा प्रोजेक्ट को सक्षम बनाने के लिये कम्युनिटी आधारित साझेदारी बढ़ाना और इसके लिये तकनीकी रूप से सबल होना।
  • स्थानीय व्यापारियों को आर्थिक रूप से मदद करना जिससे वो बिजली के वितरण की मशीनरी का हिस्सा बन सकें और अपने कम्युनिटी तक बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने में अहम भूमिका निभा सकें।

ताजा जानकारी

 

ग्रीनपीस इंडिया ‘सबका साथ, सबका स्थायी विकास’ का समर्थन करती है।

Feature Story | जून 11, 2014 at 11:00

खूफिया ब्यूरो (आई बी) द्वारा पीएमओ को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में ग्रीनपीस इंडिया पर लगाए गए आरोपों को चुनौती देते हुए ग्रीनपीस इंडिया ने कहा है कि, वह पर्यावरण के लिए काम करने वाली एक स्वतंत्र संस्था है जो दीर्घकालीन विकास और लोगों के अधिकारों के...

जंगल गंवाओ नहीं, बचाओ!

Blog entry by श्रीदेवी पद्मनाभन | जून 5, 2014

धूल-धरसित कस्बे वैढ़न के शोर-शराबे से कुछ ही किलोमीटर दूर महान जंगल एक अलग किस्म की शांति में लिपटा हुआ लगा। यहां कानों में गाड़ियों का शोर नहीं सुनाई पड़ता, सुनाई पड़ती है तो चिड़ियों और झींगुरों की आवाज़ें जो कानों में मधुर स्वर पैदा...

वन सत्याग्रही को तीन हफ्ते बाद मिली ज़मानत

Feature Story | जून 3, 2014 at 14:00

पिछले तीन हफ्ते से भी अधिक दिनों से जेल में बंद महान संघर्ष समिति के कार्यकर्ता और वन सत्याग्रही बेचनलाल शाह को जबलपुर हाईकोर्ट ने ज़मानत दे दी है। गौरतलब है कि महान जंगल में पेड़ों की मार्किंग का शांतिपूर्ण विरोध करने वाले बेचनलाल शाह और महान...

अपुन की आवाज़

Blog entry by आकाश तमांग | जून 2, 2014

मेरे प्यारे भाई लोग और बहन लोग, अपुन का नाम आकाश तमांग। मैं सोशल वर्क का स्टूडेंट हूं। मेरे संस्थान ने मुझे महान में महुआ कैंप में जाने का मौका दिया। हमारा संस्थान ग्रासरुट स्तर पर देश के युवाओं के साथ मिलकर काम करता है। जैसे ही...

3 कार्यकर्ता रिहा, मगर चौथा कार्यकर्ता अभी भी हिरासत में

Feature Story | मई 12, 2014 at 15:00

जेल में 40 से ज्यादा घंटे गुजारने के बाद हमारे तीन साथी कार्यकर्ता रिहा कर दिए गए हैं मगर चौथे कार्यकर्ता और महान संघर्ष समिति के सदस्य बेचनलाल शाह अभी भी हिरासत में हैं और उन्हें ज़मानत नहीं मिली है।

मृत लोगों के हस्ताक्षर और सरकारी फर्जीवाड़े से मिली महान कोल ब्लॉक को मंजूरी!

Feature Story | मई 9, 2014 at 17:13

मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के अंतर्गत आने वाला महान कोल ब्लॉक पिछले बहुत समय से सवालों के घेरे में है। महान कोल ब्लॉक को इस साल फरवरी में वन एवं पर्यावरण मंत्री वीरप्पा मोईली ने अंतिम चरण की मंजूरी दे दी थी। मगर सवाल यह है कि जिस ग्रामसभा की...

महान: मारपीट के बाद 4 वन सत्याग्रही गिरफ्तार!

Feature Story | मई 8, 2014 at 9:30

बुद्धवार रात आधी रात को सिंगरौली जिले के वैढ़न स्थित ग्रीनपीस के गेस्ट हाउस में पुलिस ने अचानक पहुंचकर चार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए कार्यकर्ताओं में दो ग्रीनपीस और दो महान संघर्ष समिति के कार्यकर्ता शामिल हैं। स्थानीय...

महान: ग्रामीणों ने पेड़ों पर मार्किंग के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध किया

Feature Story | मई 7, 2014 at 14:09

ग्रामीणों के पुरज़ोर विरोध के बावजूद मध्य प्रदेश स्थित महान जंगल में एस्सार कंपनी का दखल दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है। एस्सार ने महान जंगल क्षेत्र के ग्रामीणों के अधिकारों का एक बार फिर उल्लंघन किया। कंपनी ने सीमांकन के लिए जंगल में पेड़ों और...

महुए की महक से गुलजार महान जंगल

Blog entry by अविनाश कुमार चंचल | अप्रैल 28, 2014

सुबह के चार बज रहे हैं। महुआ का महीना है। जब जंगलों में रात-दिन महुआ बीनने (चुनने) वालों का मेला लगा रहता है। सिंगरौली के महान जंगल में भी आसपास के जंगलवासी अपने पूरे परिवार के साथ महुआ बीन रहे हैं। बच्चे, बूढ़े और जवान इस काम में...

मेरी जिंदगी का एक 'महान' दिन

Blog entry by सिद्धांत | अप्रैल 25, 2014

मैं पिछले 18 महीने से ग्रीनपीस के साथ स्वंयसेवी के तौर पर जुड़ा हूं और इसी नाते मुझे महान की परिस्थितियों के बारे में बहुत हद तक पता था। मगर मैंने सोचा नहीं था कि कभी मुझे महान जाने का मौका मिलेगा और जैसे ही मुझे ग्रीनपीस के एक अभियान...

1 - 10 of 77 results.