आर्कटिक सनराइज

Standard Page - जनवरी 10, 2013
ग्रीनपीस के हिमभंजक जलपोत का एक रंग-बिरंगा इतिहास रहा है। आर्कटिक सनराइज को चार्टर करने से पहले यह एक मछली पकड़ने वाले जलयान के रूप में इस्तेमाल होता था और इस जलयान से आंदोलनकारियों की उस समय भिड़ंत हुई जब वह अंटार्कटिका में हवाई पट्टी बनाने हेतु फ्रांसीसी सरकार को वायुयान के जरिए उपकरण पहुंचा रहा था।

इतिहास

आर्कटिक सनराइज ने अपना ग्रीनपीस जीवन 1995 में नार्थ सी ब्रेंट स्पार अभियान के दौरान शुरू किया, जहां उसका इस्तेमाल समुद्र में तेल संयंत्रों को डंप करने से रोकने के लिए किया जाता था। तब से इसने उत्तरी ध्रुव से 450 मील के दायरे में हर जगह काम किया है, अंटार्कटिका के रॉस समुद्र से लेकर इसने कांगो और अमेजन का भी परिवहन किया है।

हिमभंजक जलपोत के रूप में डिजाइन किया हुआ, इसका गोला कीलरहित ढांचा समुद्री बर्फ के बीच परिवहन में सक्षम है, बल्कि इस घुमावदार लहरदार समुद्री जीवन को काफी दिलचस्प भी बनाता है। 1997 में, आर्कटिक सनराइज अंटार्कटिका के जेम्स रॉस द्वीप तक समुद्री यात्रा करने वाला पहला जहाज बन गया, जबकि इसके पहले अंटार्कटिका महाद्वीप को जोड़नेवाली 200 मीटर मोटी हिम पट्टी के गलने तक यह यात्रा असंभव हो गई थी। जलवायु परिवर्तन के कई उदाहरणों में से यह एक है जो आर्कटिक सनराइज के प्रभाव के चलते संभव हो पाया है। आर्कटिक सनराइज आर्कटिक प्रदेश में बार-बार गया है, जलवायु परिवर्तन के अध्ययन के लिए कई अलास्का दौरों और अन्य कई सारे मुद्दों पर काम करने के लिए- ब्रिटिश पेट्रोलियम की परियोजना नार्थस्टार द्वारा एक नया तटीय तेल मोर्चा खोले जाने का प्रतिरोध करने के लिए, जिसने इस क्षेत्र के तेल स्रोतों के लिए खतरा उत्पन्न कर दिया है और ग्लोबल वार्मिंग को और बढ़ाया है।

2009 में इस पोत ने ग्रीनलैंड तटीय क्षेत्र और आर्कटिक हिम समुद्र के इर्द-गिर्द काम करते हुए कई महीने गुजारे और इस क्षेत्र पर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को दर्ज किया।

दक्षिणी समुद्रों में, आर्कटिक सनराइज ने अपने सहायक पोत एस्परांजा के साथ मिलकर जापान के तथाकथित 'वैज्ञानिक' ह्वेलिंग प्रोग्राम के प्रयासों को विफल कर दिया। उसने 'पैटागोनियम टूथफिश' के लिए अवैध रूप से मछली मारने वाले जलदस्यु जहाजों से लेकर मारिशस के जलदस्यु जहाज तक का पीछा भी किया।

प्रक्षेपास्त्रों की राह पर कुशल पैंतरेबाजी करने के बावजूद अमरीका 2000 में अपने 'स्टार वार्स' मिसाइल डिफेंस सिस्टम का परीक्षण करने से बाज नहीं आया, जिसने नाभिकीय हथियारों की नई होड़ शुरू हो जाने का खतरा उत्पन्न कर दिया है। सौभाग्यवश, आर्कटिक सनराइज यह सारी कहानी कहने के लिए जिंदा है और 1998 में इसने लैटिन अमेरिका टॉक्सिक्स टूर शुरू करने के लिए अर्जेंटीना में भी अपनी सक्रियता जारी रखी।

विशेषताएं 

पोर्ट ऑफ रजिस्ट्रीः एम्सटर्डम, नीदरलैंड

पूर्व नामः पोलार्बजार्न

चार्टर की तिथिः 1995

जन्म संख्याः 28

इनफ्लैटेबल नौकाएं: 2 रिब और 2 इनफ्लैटेबल

हेलीकॉप्टर की सक्षमताः हां

जहाज का प्रकारः समुद्री यात्रा करने वाला मोटरयान

कॉल चिह्नः PCTK

निर्मितः एएस वाजेन वर्फ्ट (AS Vaagen Verft) द्वारा 1975 में

कुल टन भारः 949 टन

लंबाई 0.A.:49.62 मीटर

चौड़ाईः 11.50 मीटर

अधिकतम गतिः 13 नॉट्स

मुख्य इंजनः MAK 9M452AK 2495 1HP 161KW

ऑक्स(AUX) इंजनः 2 X Deut 2 BF6M 716 208hp(175kva)

बो एवं स्टर्न थ्रस्टर्स (Bow & stern thrusters) : 400hp प्रत्येक